छत्तीसगढ़बीजापुर

बुरजी जा रहे पूर्व मंत्री गागड़ा-युवा आयोग के पूर्व सदस्य को पुलिस ने रोका, विधायक पर पुलिस के गलत इस्तेमाल का आरोप

बीजापुर। गंगालूर थाना अंतर्गत बुरजी गांव बीते एक साल से आंदोलन पर डटे आदिवासियों पर लाठी चार्ज , आंदोलन स्थल से खदेडऩे के आरोपो की हकीकत जानने सोमवार को पूर्व मंत्री महेश गागड़ा भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ बुरजी के उद्देश्य से रवाना हुए थे, गागड़ा के पीछे युवा आयोग के पूर्व सदस्य अजय सिंह भी चल रहे थे कि इन्हें गंगालूर मार्ग पर पुलिस लाइन के समीप ही पुलिस द्वारा रोक दिया गया। सुरक्षा का हवाला देते दोनो ही नेताओ को पुलिस ने आगे बढऩे नहीं दिया, इसे राजनीतिक ज्याददती करार देते महेश गागड़ा पुलिस बेरिकेड्स के सामने ही धरने पर बैठ गए। गागड़ा ने आरोप लगाया कि विधायक विक्रम मंडावी के इशारे पर पुलिस उन्हें बुरजी जाने से रोक रही है। विधायक जानते है कि अगर भाजपा पीडि़त ग्रामीण तक पहुँच गई तो विधायक का आदिवासी हितैषी का चेहरा बेनकाब हो जाएगा। जिन आदिवासियों के बूते विक्रम विधायक और लखमा मंत्री बने, आज उन्ही आदिवासियों पर इनके इशारे पर कहर ढाया जा रहा है।

गागड़ा ने कहा कि उन्हें सुरक्षा के नाम पर बार बार जनता के बीच जाने से रोका जा रहा है, पूरे मामले को लेकर वे एसपी से मुलाकात कर सवाल जरूर करेंगे। युवा आयोग के पूर्व सदस्य अजय ने कहा कि सत्तासीन होने से पहले विधायक विक्रम, मंत्री लखमा आदिवासियों के आंदोलन, प्रदर्शन को समर्थन देते थे, आज वही विधायक-मंत्री आदिवासियों से मारपीट की घटना पर चुप्पी साधे हुए है, विपक्ष हो या अन्य किसी को बुरजी के आंदोलनकारियों से मिलने से रोका जा रहा, इससे बीजापुर में सरकार-विधायक की तानाशाही साफ जाहिर होती है।

Live Share Market
 

जवाब जरूर दे 

इंडिया गठबंधन का पीएम दावेदार किसे बनाना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button