छत्तीसगढ़रायगढ़स्वास्थ्य

कोरोनाकाल में भी झोलाछाप डॉक्टर सक्रिय, कर रहे लोगों की जान से खिलवाड़, शिकायत पर दो अवैध क्लिनिक सील

गजानंद निषाद साल्हेओना बरमकेला। रायगढ़ जिले के बरमकेेला क्षेत्र में लंबे समय से झोलाछाप डाक्टरों की अवैध क्लिनिकों की शिकायत पर स्वास्थ्य विभाग की छापामार कार्रवाई करते हुए बरमकेला के ग्राम बोंदा के दो अवैध क्लिनिकों को सील कर दी गई है। बरमकेला क्षेत्र में भारी संख्या में झोलाछाप डाक्टरों की दुकान चलाई जा रही है। इसकी शिकायत की गई थी और कलेक्टर ने संज्ञान लेते हुए सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए गए थे। इस पर मंगलवार दोपहर को स्वास्थ्य विभाग के साथ राजस्व व पुलिस के अमले की संयुक्त टीम ग्राम बोंदा पहुंची और झोलाछाप डाक्टर बंगाली क्लिनिक पर धावा बोलकर सील कर दिया गया है। इसके संचालन रतन विश्वास पर कई तरह की शिकायत की गई थी और जांच के दौरान खामियां पाई। इनके द्वारा करीब बीस साल से अवैध प्रैक्टिस करने की बात कही जा रही है। इसी तरह गांव के दूसरे छोर पर सुखापाली रोड में संचालित मालाकार क्लिनिक को भी सील कर दिया गया। यहां बताना लाजिमी होगा कि एक पखवाड़े पहले पूरे बरमकेला क्षेत्र के झोलाछाप डाक्टरों का एक दल रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक से शिकायतों से निपटारा दिलाने व प्रेस वालों बचाने की गुहार लगाई थी लेकिन उन्होंने उनके दलीलों को अनसुना कर दिया था। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग बरमकेला के बीएमओ डॉ. अवधेश पाणिग्राही, डा. नीलकुमारी, आशीष पाणिग्राही, हरिशंकर पटेल के साथ राजस्व व पुलिस बल ने पहुंचकर पहली कार्रवाई कर सनसनी फैला दी। फिलहाल क्षेत्र के अवैध झोलाछाप डाक्टरों मे हड़कंप मचा है।

कोरोना मरीज का किया था इलाज: बरमकेला ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत हट्टापाली में दो झोलाछाप डॉक्टरों ने बारी बारी से एक कोरोना मरीज का इलाज किया था। दरअसल, युवक को दो तीन दिनों से बुखार था। उसे टेस्ट करवाने के लिए रायगढ़ भेजने की बजाय हट्टापाली में अवैध दुकानदारी चलाने वाले हरिप्रसाद चौहान ने लगातार इलाज किया। बाद में युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया। मामला मीडिया में सामने आया तो डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर भी करवाया गया। उसे चेतावनी भी दी गई थी कि आगे किसी तरह का कोई इलाज न करें। बावजूद इसके हरिप्रसाद चौहान द्वारा लगातार मरीजों का इलाज किया जा रहा है और बरमकेला बीएमओ उस पर मेहरबान है।

साल्हेओना में भी चल रहा बंगाली क्लिनिक: बरमकेला क्षेत्र में बंगाली डाक्टरों का काफी बोलबाला है ।इसी क्रम में साल्हेओना मेन रोड किनारे पर एक बंगाली डाक्टर वर्षों से अपना अवैध कारोबार चला रहा है और नजूल की जमीन पर अवैध क्लिनिक खोलकर पति पत्नी दोनों इलाज करने लगे हैं। इन पर कार्रवाई नहीं हो पा रही है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बहुत जल्द कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

क्या कहते हैं बीएमओ
बोंदा के दो अवैध क्लिनिकों को सील कर दिया गया है और आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी
डॉ. अवधेश पाणिग्राही, बीएमओ बरमकेला

Live Share Market
 

जवाब जरूर दे 

इंडिया गठबंधन का पीएम दावेदार किसे बनाना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button